• LOGIN
  • No products in the cart.

 बाल विकास और अध्यापन

  • बाल विकास का अर्थ, आवश्कता और क्षेत्र, बाल विकास की अवस्थाएं शारीरिक विकास, मानसिक विकास, संवेगात्मक विकास, भाषा विकास – अभिव्यक्ति क्षमता का विकास, सृजनात्मकता एंव सृजनात्मकता क्षमता का विकास।
  • बाल विकास के आधार एंव उनको प्रभावित करने वाले कारक – वंशानुक्रम, वातावरण (पारिवारिक, समाजिक, विध्लालयीय, संचार माध्यम)।
  • अधिगम (सिखने) का अर्थ प्रभावित करने वाले कारक, अधिगम की प्रभावशाली विधियां।
  • अधिगम के नियम – थार्नडाइक के सिखने के मुख्य नियम एंव अधिगम में उनका महत्तव।
  • अधिगम के प्रमुख सिद्धांत तथा शक्षिण में इनकी व्यावहारिक उपयोगिता, थार्नडाइक का प्रयास एंव त्रुटि का सिद्धांत, कोहलर का सूझ या अंतर्दृष्टि का सिद्धांत, प्याजे का सिद्धांत, व्योगास्की का सिद्धांत सीखने का वक्र – अर्थ एंव प्रकार, सीखने में पठान का अर्थ और कारण एंव निराकरण

Course Curriculum

UPTET CDP Syllabus UPC01 23:54:00
UPTET Bal Vikas 1 UPC02 00:25:00
UPTET Bal Vikas- Kshetra UPC03 00:20:00
UPTET Vraddhi Evam Vikas UPC04 00:20:00
पियाजे का संज्ञानात्मक विकास सिद्धांत | बाल विकास और शिक्षाशास्त्र | UPC05 00:00:00
कोहलबर्ग का नैतिक विकास का सिद्धांत UPC06 00:00:00
लेव व्योगात्स्की का सामाजिक-सांस्कृतिक विकास से संज्ञानात्मक विकास का सिद्धान्त | UPC07 00:00:00
Vikas Ki Avasthayein UPC08 00:20:00
Bibhinn Vikas UPC09 00:22:00
Vatavaran UPC10 00:28:00
Vatavaran UPC11 00:20:00
अधिगम UPC12 00:20:00
अधिगम की विधियाँ UPC13 00:14:00

Course Reviews

N.A

ratings
  • 5 stars0
  • 4 stars0
  • 3 stars0
  • 2 stars0
  • 1 stars0

No Reviews found for this course.